Sri Lanka Blasts: मृतकों की संख्या 215, देश में कर्फ्यू लगा

35 विदेशी नागरिक भी हमले में मारे गए, उनमें भारतीय, ब्रिटिश, अमेरिकी और डच नागरिक शामिल

7 संदिग्ध भी पुलिस ने गिरफ्तार किए, घायलों में 4 पाकिस्तानी भी


रवि रौणखर, जालंधर
21 अप्रैल , 2019

रविवार को श्रीलंका की राजधानी कोलंबो और अन्य शहरों में 3 चर्च और 3 होटलों और दो अन्य जगहों पर हुए सीरियल फिदायीन बम ब्लास्ट में अब तक 200 से ज्यादा की मौत हो चुकी है। शाम 6 बजे तक 215 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी थी। पुलिस ने 7 संदिग्धों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस के मुताबिक सभी ब्लास्ट फिदायीन हमले थे। आतंकियों ने विस्फोटकों से भरे बैग और जैकेट डालकर इन हमलों को अंजाम दिया। आतंकवादियों के निशाने पर ईसाई और विदेशी पर्यटक थे। ईसाइयों के धार्मिक उत्सव ईस्टर की प्रार्थना के वक्त ही ये बम ब्लास्ट किए गए। ईसाई धर्म में यह मान्यता है कि ईस्टर के दिन सूली पर चढ़ा दिए गए यीशू मसीह दोबारा जीवित हो गए थे। बम धमाकों में अब तक 500 के करीब लोग घायल हुए हैं।

क्या यह न्यूजीलैंड की मस्जिद पर हमले का बदला है?

5 स्टार होटल के रेस्त्रां को भी निशाना बनाया गया। जांच में जुटा एक अधिकारी (फोटो-एपी)

कुछ जानकार इन हमलों को पिछले महीने 15 मार्च को न्यूजीलैंड की क्राइस्टचर्च मस्जिद हमले का बदला बता रहे हैं। उस हमले में आस्ट्रेलियाई नागरिक और ईसाई कट्टरपंथी ब्रैंटन टैरंट ने 49 मुसलमानों को उस वक्त गोलियों से भून दिया था जब वे नमाज पढ़ रहे थे। सुरक्षा जानकार श्रीलंका हमले को उसी का बदला बता रहे हैं। हालांकि अभी तक किसी भी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है। श्रीलंका इससे पहले एलटीटीई के आतंक को 30 सालों तक झेलता रहा है। उस दौर में भी लाखों की जान आतंकी हमलों में चली गई थी। मगर 11 साल पहले एलटीटीई के खात्मे के बाद से श्रीलंका पर इस तरह का कोई आतंकी हमला नहीं हुआ था। हमले में 35 विदेशी नागरिकों की भी मौत की खबर है। भारत समेत दुनिया भर के देशों ने इस आतंकी हमले की निंदा की है। वहीं श्रीलंका में सोशल मीडिया को बंद कर दिया गया है। श्रीलंका में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

हमले में श्रीलंका के मुस्लिम कट्टरपंथी संगठन एनटीजे (नेशनल तौहीथ जमात) पर शक (National Thowheeth Jama’ath)

इस्लामिक स्टेट के आतंकियों के एक ठिकाने से कई क्विंटल विस्फोटक मिला था

एक विदेशी खुफिया एजेंसी का कहना है कि पिछले साल बौद्ध मंदिरों में महात्मा बुद्ध की मूर्तियों को नुकसान पहुंचाने वाले संगठन नेशनल तौहीथ जमात ( NTJ ) पर शक जताया जा रहा है। हालांकि अभी तक श्रीलंका के किसी भी सुरक्षा बल या खुफिया एजेंसी ने इस दावे की पुष्टि नहीं की है। हालांकि इसी साल जनवरी में श्रीलंका सुरक्षा बलों ने कई क्विंटल विस्फोटक बरामद किया था। विस्फोटक सामग्री आईएस के आतंकियों द्वारा तैयार की जा रही थी।

श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में इन जगहों पर हुए ब्लास्टः


अपनों को खोने का दर्द, ब्लास्ट के बाद सड़क पर बेहाल एक महिला। (फोटो-एपी)

सेंट एंथोनी चर्च कोचिकाडे
सेंट सेबस्टियन चर्च कटुवापिटिया
शंग्री ला होटल
सिनामोन ग्रैंड होटल
बैटिकालोआ चर्च
किंग्सबरी होटल
देमातागोड़ा

ट्रंप ने ट्वीट किया 13.60 करोड़ लोगों की मौत का अफसोस है

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने श्रीलंका में हुए बम धमाकों की निंदा जताते हुए और श्रीलंका के साथ सहानुभूति जताते हुए एक ट्वीट में बड़ी चूक कर दी। ट्रंप ने लिखा कि श्रीलंका में 13.60 करोड़ लोगों की मौत का उन्हें अफसोस है। उन्होंने जब ट्वीट किया तब श्रीलंका में मृतकों की संख्या 136 बताई जा रही थी। उन्हें 136 लिखना था लेकिन वह 136 मिलियन लिख गए। यानी पूरे 13 करोड़ 60 लाख। ट्रंप खुद एक बिलिनियर बिजनेसमैन रहे हैं। ऐसे में मिलियन और बिलियन की बातें करने वाले ट्रंप से यह गलती हो गई। हालांकि जैसे ही सोशल मीडिया पर ट्रंप का मजाक उड़ा तो उन्होंने ट्वीट को ए़डिट कर दिया।


”Heartfelt condolences from the people of the United States to the people of Sri Lanka on the horrible terrorist attacks on churches and hotels that have killed at least 138 million people and badly injured 600 more. We stand ready to help!” Trump tweeted

नीचे देखें हमले की तस्वीरेंः कुछ तस्वीरें दिल दहला सकती हैं


दशकों तक गृह युद्ध झेल चुके श्रीलंका में अब कहीं शांति आई थी। मगर आतंकी हमले ने फिर से जख्म ताजा कर दिए। (फोटो-एपी)
बम ब्लास्ट में मदर मैरी की टूटी हुई प्रतिमा
चर्च के बाहर घेरा बनाकर खड़े वोलेंटियर
(फोटो-एपी)

भारत ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए

भारतीय विदेश मंत्रालय ने श्रीलंका में हुए बम धमाकों के चलते भारतीय नागरिकों के लिए कुछ हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। अगर कोई भारतीय अपने किसी परिचित का हालचाल जानना चाहता है या किसी अपने का श्रीलंका में संपर्क नहीं हो पा रहा हो तो इन नंबरों पर कॉल कर सकते हैं। +94777903082,+94112422788,+94112422789, +94112422789