Assange Arrested: 7 साल इक्वाडोर एंबेसी में शरणर्थी रहे असांजे ने विकिलीक्स पर अमेरिकी सेना के दस्तावेज लीक कर दिए थे, एंबेसी ने खुद पुलिस बुला गिरफ्तार करवाया

असांजे ने अमेरिकी सेना के सीक्रेट डॉक्यूमेंट और वीडियो विकिलीक्स वेबसाइट पर लीक कर दिए थे, दुनिया में अमेरिका की किरकिरी हुई थी

इक्वाडोर के राष्ट्रपति ने कहा असांजे हमारे नियमों का पालन नहीं कर रहा था, अगस्त 2012 से लंदन की इक्वाडोर एंबेंसी में रह रहा था

रवि रौणखर, जालंधर
11 अप्रैल, 2019

अमेरिकी सेना के सीक्रेट डॉक्यूमेंट लीक कर दुनिया में हड़कंप मचाने वाले विकिलीक्स के सीईओ 47 वर्षीय जुलियान पॉल असांजे को वीरवार को लंदन पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। असांजे अगस्त 2012 से इक्वाडोर एंबेसी में एक शरणार्थी के तौर पर रह रहे थे। 5 अप्रैल को इक्वाडोर ने उससे शरणार्थी का दर्जा वापस ले लिया था। ऑस्ट्रेलिया में जन्मे कंप्यूटर प्रोग्राम जुलियान पॉल असांजे पर अमेरिकी सरकार ने क्लासिफाइड और सीक्रेट डॉक्यूमेंट लीक करने का आरोप लगाया था। अमेरिका ने जब यह आरोप लगाए थे तब असांजे यूके में था। रेप के एक मामले में स्वीडन सरकार भी उसके पीछे लगी थी। यूके सरकार ने उसके प्रत्यार्पण की कार्रवाई शुरू की और असांजे को जब लगा कि अब उसे अमेरिका या स्वीडन डिपोर्ट कर दिया जाएगा तब उसने इक्वाडोर अंबेसी में शरण ले ली। अगर स्वीडन में डिपोर्ट करते तब भी उसे अमेरिका भेजा लगभग तय था। ऐसे में चौतरफा घिरे असांजे ने इक्वाडोर की एंबेंसी में जाकर शरण मांगी। इक्वाडोर शरणार्थियों को शरण देने के लिए मशहूर देश है। यह एक लेटिन अमेरिकन देश है जिसके अमेरिका के साथ भी कुछ अच्छे संबंध नहीं हैं। जब पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया तब असांजे की मानसिक हालत भी ठीक नहीं लग रही थी। उसकी लंबी सफेद दाड़ी वाली फोटो लंदन में खूब वायरल हो रही है।

विकिलीक्स के सीईओ कभी ऐसे दिखते थे। अब बड़े बाल और लंबी दाड़ी वाली फोटो में मायूस दिख रहे हैं

2487 दिन इक्वाडोर एंबेंसी में रहे, इक्वाडोर ने खुद पुलिस बुलाई

5 अप्रैल 2019 को इक्वाडोर के राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो ने एक स्टेटमेंट जारी करते हुए कहा कि असांजे इक्वाडोर एंबेसी में हमारे नियमों को लगातार तोड़ रहा है। इसलिए हम उसे डिपोर्ट कर रहे हैं। असांजे की जमानत याचिका तो पहले ही खारिज हो चुकी थी।

वीडियो लीक कर दिए थे जिसमें अमेरिकी सैनिक इराकी कैदी का कत्ल कर रहे थे

इराक में एक कैदी की हत्या से पहले की फोटो। अमेरिकी सैनिकों ने ऐसी कई हत्याएं की। जिसके वीडियो असांजे की विकिलीक्स ने इंटरनेट पर डाल दिए

असांजे ने अमेरिकी सेना में तैनात इंटेलिजेंस एनालिस्ट चैलसी मैनिंग के साथ मिलकर अमेरिकी सेना का बहुत सारा डाटा चुरा लिया था। 2004 से 2009 तक अमेरिकी सेना के लगभग 4 लाख डॉक्यूमेंट लीक कर दिए थे। उसमें सेना की एक एक गतिविधी शामिल थी। अमेरिकी सेना दुश्मन के इलाके में कई तरह के हथकंडे अपनाती है। उसमें कई गैरकानूनी ढंग से की गई हत्याएं, टॉर्चर, अत्याचार, अपराध शामिल हैं। असांजे ने वह सारी जानकारी इंटरनेट पर डाल दी थी। उससे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अमेरिका की अच्छी खासी किरकिरी हुई थी। असांजे ने न सिर्फ अमेरिकी बल्की पोप और अन्य देशों की सीक्रेट जानकारी भी लीक कर दी। यह सारी जानकारी विकिलीक्स नाम की वेबसाइट पर की गई। इस वेबसाइट के सीईओ जुलियान असांजे ही थे। 2006 में बनी इस वेबसाइट पर 2010 में इराक और अफ्गानिस्तान युद्ध में अमेरिकी सेना के सीक्रेट लीक किए गए। 2010 में ही उसके खिलाफ अमेरिका ने केस दर्ज कर दिया। 2010 में स्वीडन की एक महिला ने असांजे पर रेप का आरोप लगाया। असांजे के खिलाफ स्वीडन ने इंटरनेशनल अरेस्ट वारंट जारी किए।
असांजे उस वक्त लंदन में था। यूके पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया। 10 दिन बाद उसे जमानत मिल गई। हालांकि महिला ने बाद में केस वापस ले लिया था। अब असांजे पर रेप चार्ज नहीं है। मगर 2012 में ब्रिटेन उसे अमेरिकी सरकार के हवाले करने की प्रक्रिया शुरू करने वाला ही था कि उसने इक्वाडोर में शरण ले ली। इक्वाडोर ने अब यू टर्न लेते हुए खुद ही लंदन पुलिस बुलाई। यानी 7 साल बाद असांजे ने एंबेसी के बाहर कदम रखा।

अमेरिका में केस चल सकता है, कुछ साल जेल भी हो सकती है

एंबेसी से यूके पुलिस असांजे को पकड़ कर ले जाते हुए

जुलियान असांजे को लगता था कि अगर उसे अमेरिका डिपोर्ट कर दिया जाता है तो उसे कम से कम 40 साल की सजा होगी। मगर जानकार बता रहे हैं कि हो सकता है कि 6-7 साल में वह बाहर आ जाएं या उन्हें तुरंत जमानत मिल सकती है। अमेरिका के ईस्टर्न डिस्ट्रिक्ट वर्जीनिया में उसके खिलाफ केस दर्ज है। जिसमें देश की खुफिया जानकारी, गैरकानूनी तरीके से नेशनल सिक्यूरिटी के दस्तावेज चुराने जैसे कई गंभीर आरोप लगे हैं।

असांजे को डाटा लीक करने वाली चेल्सी रिहा हो चुकी है

चेल्सी मैनिंग, राष्ट्रीय सुरक्षा को ताक पर रखने के जुर्म में सेना ने उसका कोर्ट मार्शल कर दिया था

असांजे को अमेरिकी सेना का डाटा लीक करने वाली पूर्व अमेरिकी सैनिक चेल्सी मैनिंग कुछ महीने जेल में रहने के बाद रिहा हो गई थी। हालांकि उसे 35 साल की सजा हुई थी। उसका कोर्ट मार्शल कर दिया गया था और उसकी डिमोशन भी कर दी गई थी।

नीचे लिंक्स पर जाकर आप देख सकते हैं कि विकिलीक्स किस तरह अलग अलग देशों के सीक्रेट डॉक्यूमेंट अपनी वेबसाइट पर लीक कर देता है।

https://wikileaks.org/

https://wikileaks.org/detaineepolicies/document/