बच्चों को गुरुकुल के समर कैंप में भी भेज कर देखें, संस्कार सीखकर लौटेंगे

– पहली बार गुरुकुल लड़कियों के लिए भी लगा रहा है कैंप, कैंप कपूरथला में 8 से 15 जून तक चलेगा, कैंप में प्रवेश पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर

– लड़कियां इन नंबरों पर कॉल कर कैंप की जानकारी ले सकते हैं, शीतल-6284859355, अनुपमा सूद- 9041832100 और राज शर्मा-9464638025

रवि रौणखर, जालंधर
27 मई, 2019

हजारों साल पुरानी गुरुकुल शिक्षा पद्धति आज भी जीवित है। करतारपुर में पंजाब का इकलौता गुरुकुल गुरु विरजानंद गुरुकुल महाविद्यालय करतारपुर हर साल गर्मियों और सर्दियों की छुटिट्यों में एक फ्री रेजिडेंशियल कैंप का आयोजन करता है। इस बार 1 जून से 7 जून तक लड़कों के लिए करतारपुर और 8 जून से 15 जून तक लड़कियों के लिए वैदिक श्रम आश्रम कपूरथला में कैंप लगाए जा रहे हैं।

कैंप में 14 साल से 35 साल तक के पुरुष और महिलाएं हिस्सा ले सकते हैं। कैंप में सात दिन खाना-पीना लगभग पूरी तरह फ्री है। सिर्फ नाममात्र शुल्क लिया जा रहा है। गुरुकुल में सुबह से लेकर रात तक गुरुकुल शिक्षा पद्धति के अलग अलग विषयों और कार्यक्रमों में हिस्सा लेने का मौका मिलेगा। गुरु विरजानंद गुरुकुल के प्रिंसिपल डॉ. उदयन आर्य ने बताया कि कैंप का मुख्य लक्ष्य उन युवाओं में कॉन्फिडेंस बढ़ाना है जो चार लोगों के बीच भी बात करने से झिझक महसूस करते हैं। आत्मबल की कमी के चलते ही बहुत सारे युवा डिप्रेशन में चले जाते हैं। बहुत सारों को पता ही नहीं होता कि अपनी पर्सनेलिटी को कैसे विकसित करना है। साथ ही इस कैंप के जरिए युवा देश की हजारों साल पुरानी गुरुकुल शिक्षा पद्धति को भी जान पाएंगे। डॉ. उदयन आर्य ने बताया कि कैंप का लक्ष्य युवाओं में कॉन्फिडेंस बढ़ाना है। 

लठ चलाने और मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग देंगे 

कैंप में न सिर्फ देश प्रेम बल्कि माता पिता का आदर और भारत के पुरातन संस्कारों को भी सिखाया जाएगा। आजकल के बच्चे जिस तरह माता पिता की बात नहीं मानते उस व्यवहार को दूर करने पर भी खास कार्यक्रम रखे गए हैं। बच्चों को लठ चलाना और अलग अलग मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग भी दी जाएगी ताकि वह अपनी रक्षा के लिए तैयार हो सकें। बच्चों को संस्कृत की जानकारी भी दी जाएगी। संस्कृत भाषा के जीवन में लाभ भी बताए जाएंगे। कैंप में रजिस्ट्रेशन के लिए 9803043271 पर संपर्क कर सकते हैं।

स्मार्टफोन और आलसी जीवन से छुटकारा पाने का रास्ता भी दिखाया जाएगा

स्मार्टफोन और आलसी जीवन के आदी हो चुके बच्चों में बदलाव के लिए गुरुकुल करतारपुर एक समर कैंप लगाने जा रहा है। 1 से 7 जून तक करतारपुर में लग रहे कैंप में 13 से लेकर 35 साल तक के बालक और पुरुष हिस्सा ले सकते हैं। 7 दिन वहीं रहना होगा। इस निशुल्क कैंप में रहने खाने-पीने का खर्च गुरुकुल ही उठाएगा। महज 300 रुपए रजिस्ट्रेशन फीस ली जाएगी। अगर कोई 300 रुपए भी नहीं दे सकता तो उनकी रजिस्ट्रेशन फ्री में की जाएगी। गुरुकुल के प्रिंसिपल डॉ. उदयन आर्य ने बताया कि इस कैंप में बच्चों को भेजने से पहले माता-पिता यह जान लें कि यह किसी पिकनिक जाने जैसा नहीं है। यहां बच्चों को सुबह 4 बजे से रात 9 बजे तक कठोर दिनचर्या का सामना करना पड़ेगा।

व्यक्तित्व कठोर दिनचर्या के पालन से ही संभव

इस कैंप में बालक के पूरे व्यक्तित्व को बदलने की कोशिश होती है। कैंप में सबसे अहम काम पर्सनेलिटी डेवलपमेंट का है। बच्चे भेड़चाल में संस्कार भी नहीं सीख रहे और स्मार्टफोन उनकी कार्यकुशलता भी खत्म कर रहा है। बच्चों को सुबह 4 से रात 10 बजे तक कठोर दिनचर्या का पालन सिखाया जाएगा। बच्चों को भाषण कला भी सिखाई जाएगी।

कैंप में बच्चों को यज्ञ भी सिखाया जाएगा

गुरुकुल में हवन यज्ञ भी बच्चों को सिखाया जाएगा। फोटो में गुरुकुल के प्रिंसिपल डॉ. उदयन आर्य छात्रों के साथ यज्ञशाला में।

( कैंप में हिस्सा लेने के लिए 9803043271 पर कॉल और 9988163239 पर व्हाट्सएप मैसेज से रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। 13 से 35 साल के युवा इन नंबरों पर संपर्क कर रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। ) 

कैंप के अन्य संपर्क सूत्र
जिलानामफोन नंबर
पठानकोटमोहन लाल शास्त्री7837579579
जालंधरराहुल8699134423
होशियारपुरखेमराज7355527303
पटियालाचांद आर्य8437021672
चंडीगढ़रामसुफल शास्त्री9416034759
कपूरथलाहिमांशु पराशर9815376560
बटालामुकेश7508134100
शिविर संयोजकआदित्य प्रेमी9872073108